Did you know?

When Saudi Arabia's King visited India in 1955, PM Nehru ordered all the Hindu Temples and Idols of Hindu Deities that came in Saudi King's way to be covered up.
Our temples are the architectural marvels in their own league.

Each of our temples tells the story of our rich history and cultural heritage. Was Nehru that ashamed of his own nation's heritage that he had to cover them up or there was some other reason? The answer would be best known to him only.
PM Nehru invited the then Saudi King Saud bin Abdul Aziz to India who accepted the invitation and planned a 17 day long official visit to India in 1955. Saudi King had brought a large delegation with him and he had to visit various Indian cities like Mumbai, Hyderabad, Agra,
Aligarh, Shimla, Mysore and Varanasi. However, when Saudi King reached Varanasi, Nehru ordered to cover all the temples and Idols with curtains that came in the way of the Royal Convoy. During his stay in Varanasi, Govt buildings were painted with the words "Kalma Tayyiba".
'Kalma Tayyiba' means 'There is not God but only Allah and Mohammed is his messenger'. In addition to it, Pooja and Aartis were also stopped at temples. I can call it the appeasement politics of the highest order and Nehru was indeed the greatest appeaser of all times.
But was it really worth it. Can a person stooge to that level of lowness just to appease a powerful person of different faith. How can anybody's conscience agree to it?
Varanasi is an ancient holy city of India which is full of ancient temples and rich cultural heritage.
Varanasi was the city that was brutally attacked and destroyed in several consecutive Islamic invasions. Kashi Vishwanath temple was first destroyed by Qutubdin Aibak. Hindus rebuilt it to be attacked again by Sikander Lodhi. Reconstructed by Raja Man Singh in 1585.
In 1669, Kashi was again attacked by another Islamic invader named Aurangzeb who not only destroyed every temple that came his way but also killed each and every Hindu devotee who tried to save the temples.
These Islamic invaders not only destroyed the temples in Kashi but all over India.Every temple that was destroyed, they raised a Mosque in its place, the proofs of which we are still finding all over. These Mosques remind us about our historical wounds that have still not healed.
It's not that Nehru didn't know about all these facts but the question is that despite knowing the facts, Why he behaved in a certain way that he did, and not only once, many times. Why should India do anything that conforms to Saudi King's beliefs and his country?
And to that matter why should India do anything that any other country wants?
The Irony was that when Nehru requested Saudi King to say, 'fate of Indian Muslim was in safe hand' in his speech. So, Nehru wanted to prove this.
Nehru also visited Saudi Arabia in 1956 to take ahead the diplomatic relations but did Saudi King cover all the Mosques coming in Nehru's way? Definitely not. Saudi Arabia didn't compromise with its culture and traditions and for that Saudi King definitely deserves appreciation.
The problem was with our leader, not the leader of Saudi Arabia.
Nehru has done the politics of appeasement whole his life the negative consequences of which we are still facing. All he cared about was the PM's Chair. He was a power hungry PM who didn't care about India at all.
If he cared, this great Nation would have been still united. He could've easily stopped the partition if he gave up his dream of becoming PM.

See the contrasting images 👇

Continuing the legacy of their Great Grandfather and An Unapologetic Hindu.

More from Vibhu Vashisth

हिमालय पर्वत की एक बड़ी पवित्र गुफा थी।उस गुफा के निकट ही गंगा जी बहती थी।एक बार देवर्षि नारद विचरण करते हुए वहां आ पहुंचे।वह परम पवित्र गुफा नारद जी को अत्यंत सुहावनी लगी।वहां का मनोरम प्राकृतिक दृश्य,पर्वत,नदी और वन देख उनके हृदय में श्रीहरि विष्णु की भक्ति अत्यंत बलवती हो उठी।


और देवर्षि नारद वहीं बैठकर तपस्या में लीन हो गए।इन्द्र नारद की तपस्या से घबरा गए।उन्हें हमेशा की तरह अपना सिंहासन व स्वर्ग खोने का डर सताने लगा।इसलिए इन्द्र ने नारद की तपस्या भंग करने के लिए कामदेव को उनके पास भेज दिया।वहां पहुंच कामदेव ने अपनी माया से वसंतऋतु को उत्पन्न कर दिया।


पेड़ और पौधों पर रंग बिरंगे फूल खिल गए और कोयलें कूकने लगी,पक्षी चहकने लगे।शीतल,मंद,सुगंधित और सुहावनी हवा चलने लगी।रंभा आदि अप्सराएं नाचने लगीं ।किन्तु कामदेव की किसी भी माया का नारद पे कोई प्रभाव नहीं पड़ा।तब कामदेव को डर सताने लगा कि कहीं नारद क्रोध में आकर मुझे श्राप न देदें।

जैसे ही नारद ने अपनी आंखें खोली, उसी क्षण कामदेव ने उनसे क्षमा मांगी।नारद मुनि को तनिक भी क्रोध नहीं आया और उन्होने शीघ्र ही कामदेव को क्षमा कर दिया।कामदेव प्रसन्न होकर वहां से चले गए।कामदेव के चले जाने पर देवर्षि के मन में अहंकार आ गया कि मैने कामदेव को हरा दिया।

नारद फिर कैलाश जा पहुंचे और शिवजी को अपनी विजयगाथा सुनाई।शिव समझ गए कि नारद अहंकारी हो गए हैं और अगर ये बात विष्णु जी जान गए तो नारद के लिए अच्छा नहीं होगा।ये सोचकर शिवजी ने नारद को भगवन विष्णु को ये बात बताने के लीए मना किया। परंतु नारद जी को ये बात उचित नहीं लगी।
🌺आचमन क्या है और इसे तीन बार ही क्यों किया जाता है ?🌺

पूजा, यज्ञ आदि आरंभ करने से पूर्व शुद्धि के लिए मंत्र पढ़ते हुए जल पीना ही आचमन कहलाता है। इससे मन और हृदय की शुद्धि होती है।

धर्मग्रंथों में तीन बार आचमन करने के संबंध में कहा गया है।


प्रथमं यत् पिवति तेन ऋग्वेद प्रीणाति। यद् द्वितीयं तेन यजुर्वेदं प्रीणाति यद् तृतीयं तेन सामवेदं प्रीणाति॥

अर्थात् तीन बार आचमन करने से तीनों वेद यानी-ऋग्वेद,यजुर्वेद,सामवेद प्रसन्न होकर सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं।
मनु महाराज के मतानुसार
त्रिराचामेदपः पूर्वम्।
-मनुस्मृति2/60

अर्थात् सबसे पहले तीन बार आचमन करना चाहिए। इससे कंठशोषण दूर होकर, कफ़ निवृत्ति के कारण श्वसन क्रिया में व मंत्रोच्चारण में शुद्धता आती है। इसीलिए प्रत्येक धार्मिक कृत्य के शुरू में और संध्योपासन के मध्य बीच-बीच में अनेक बार तीन की संख्या में आचमन का विधान बनाया गया है।


इसके अलावा यह भी माना जाता है कि इससे कायिक, मानसिक और वाचिक तीनों प्रकार के पापों की निवृत्ति होकर न दिखने वाले फल की प्राप्ति होती है।

अंगूठे के मूल में ब्रह्मतीर्थ, कनिष्ठा के मूल प्रजापत्यतीर्थ, अंगुलियों के अग्रभाग में देवतीर्थ, तर्जनी और अंगूठे के बीच पितृतीर्थ और

हाथ के मध्य भाग में सौम्यतीर्थ होता है, जो देवकर्म में प्रशस्त माना गया है। आचमन हमेशा ब्रह्मतीर्थ से करना चाहिए। आचमन करने से पहले अंगुलियां मिलाकर एकाग्रचित्त यानी एकसाथ करके पवित्र जल से बिना शब्द किए 3 बार आचमन करने से महान फल मिलता है। आचमन हमेशा 3 बार करना चाहिए।

More from All

This is a pretty valiant attempt to defend the "Feminist Glaciology" article, which says conventional wisdom is wrong, and this is a solid piece of scholarship. I'll beg to differ, because I think Jeffery, here, is confusing scholarship with "saying things that seem right".


The article is, at heart, deeply weird, even essentialist. Here, for example, is the claim that proposing climate engineering is a "man" thing. Also a "man" thing: attempting to get distance from a topic, approaching it in a disinterested fashion.


Also a "man" thing—physical courage. (I guess, not quite: physical courage "co-constitutes" masculinist glaciology along with nationalism and colonialism.)


There's criticism of a New York Times article that talks about glaciology adventures, which makes a similar point.


At the heart of this chunk is the claim that glaciology excludes women because of a narrative of scientific objectivity and physical adventure. This is a strong claim! It's not enough to say, hey, sure, sounds good. Is it true?
1️⃣ #KashmiriPandits के खिलाफ आतंकवाद का ये खूनी खेल शुरू हुआ था साल 1986-87 में, जब सलाहुद्दीन और यासीन मलिक जैसे आतंकवादियों ने J&K का चुनाव लड़ा॥

नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनी लेकिन वहां हुकूमत चल रही थी आतंकवादियों और अलगाववादियों की. #KashmirExodus1990


2️⃣ चुनावों में हार से नाख़ुश यासीन मलिक का संगठन JKLF (Jammu Kashmir liberation front) जो “भारत से अलग” होना चाहता था उसने पाकिस्तान के साथ मिलकर घाटी में “आतंकी प्रवृत्ति को बढ़ाकर कश्मीरी पंडितों को कश्मीर घाटी से निकालने के षडयंत्र” के तहत अपने संगठन को विस्तृत करना शुरू किया॥


3️⃣
पाकिस्तान की मदद से JKLF ने अपने सदस्यों को POK मैं आतंकवाD की ट्रेनिंग दिलवाई,हथियार मुहैया करवाये JKLF ने कश्मीर घाटी के लोगों को भारत और कश्मीरी पंडितों के ख़िलाफ़ भड़काना शुरू किया, हालात यहाँ तक बिगाड़ दिए थे की JKLF के आतंकी घाटी की गलियों में AK-47 लेके घूमते थे!


4️⃣1988 अंत तक JKLF ने भारत से कश्मीर को आज़ाद कर ISLAM!C RULE (निज़ाम-E-मुस्तफ़ा) स्थापित करने के लिए अपनी आतंकी गतिविधियों को तेज कर दिया, कश्मीर घाटी में कश्मीरी पंडित Minority मे थे; जो कश्मीरी पंडित भारत के साथ रहने की बात करता था उसको को जान से मारने की धमकी दी जाने लगी॥

5️⃣ तत्कालीन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो ने कश्मीर घाटी में जिहाD को बढ़ावा देने के लिए POK में सैकड़ों कश्मीर घाटी के उग्रवादियों को Training देकर आतंकी बनाया और हथियार मुहैया कराए गए॥ कश्मीरी पंडितों में डर फैला कर घाटी से निकालने के लिए TARGET करना शुरु हो चुका था॥

You May Also Like