Gematria decode ... very powerful and a bit moving too, at the end ... https://t.co/D6s7zEev80

More from 🌹⚜️ ⚔️ 𝒮𝒽𝑒𝓀𝒽𝒾𝓃𝒶𝒽 ⚔️ ⚜️ 🌹

More from For later read

This response to my tweet is a common objection to targeted advertising.

@KevinCoates correct me if I'm wrong, but basic point seems to be that banning targeted ads will lower platform profits, but will mostly be beneficial for consumers.

Some counterpoints 👇


1) This assumes that consumers prefer contextual ads to targeted ones.

This does not seem self-evident to me


Research also finds that firms choose between ad. targeting vs. obtrusiveness 👇

If true, the right question is not whether consumers prefer contextual ads to targeted ones. But whether they prefer *more* contextual ads vs *fewer* targeted

2) True, many inframarginal platforms might simply shift to contextual ads.

But some might already be almost indifferent between direct & indirect monetization.

Hard to imagine that *none* of them will respond to reduced ad revenue with actual fees.

3) Policy debate seems to be moving from:

"Consumers are insufficiently informed to decide how they share their data."

To

"No one in their right mind would agree to highly targeted ads (e.g., those that mix data from multiple sources)."

IMO the latter statement is incorrect.

You May Also Like

शमशान में जब महर्षि दधीचि के मांसपिंड का दाह संस्कार हो रहा था तो उनकी पत्नी अपने पति का वियोग सहन नहीं कर पायी और पास में ही स्थित विशाल पीपल वृक्ष के कोटर में अपने तीन वर्ष के बालक को रख के स्वयं चिता पे बैठ कर सती हो गयी ।इस प्रकार ऋषी दधीचि और उनकी पत्नी की मुक्ति हो गयी।


परन्तु पीपल के कोटर में रखा बालक भूख प्यास से तड़पने लगा। जब कुछ नहीं मिला तो वो कोटर में पड़े पीपल के गोदों (फल) को खाकर बड़ा होने लगा। कालान्तर में पीपल के फलों और पत्तों को खाकर बालक का जीवन किसी प्रकार सुरक्षित रहा।

एक दिन देवर्षि नारद वहां से गुजर रहे थे ।नारद ने पीपल के कोटर में बालक को देख कर उसका परिचय मांगा -
नारद बोले - बालक तुम कौन हो?
बालक - यही तो मैं भी जानना चहता हूँ ।
नारद - तुम्हारे जनक कौन हैं?
बालक - यही तो मैं भी जानना चाहता हूँ ।

तब नारद ने आँखें बन्द कर ध्यान लगाया ।


तत्पश्चात आश्चर्यचकित हो कर बालक को बताया कि 'हे बालक! तुम महान दानी महर्षि दधीचि के पुत्र हो । तुम्हारे पिता की अस्थियों का वज्रास्त्र बनाकर ही देवताओं ने असुरों पर विजय पायी थी।तुम्हारे पिता की मृत्यु मात्र 31 वर्ष की वय में ही हो गयी थी'।

बालक - मेरे पिता की अकाल मृत्यु का क्या कारण था?
नारद - तुम्हारे पिता पर शनिदेव की महादशा थी।
बालक - मेरे उपर आयी विपत्ति का कारण क्या था?
नारद - शनिदेव की महादशा।
इतना बताकर देवर्षि नारद ने पीपल के पत्तों और गोदों को खाकर बड़े हुए उस बालक का नाम पिप्पलाद रखा और उसे दीक्षित किया।
Assalam Alaiki dear Sister in Islam. I hope this meets you well. Hope you are keeping safe in this pandemic. May Allah preserve you and your beloved family. I would like to address the misconception and misinterpretation in your thread. Please peruse the THREAD below.


1. First off, a disclaimer. Should you feel hurt by my words in the course of the thread, then forgive me. It’s from me and not from Islam. And I probably have to improve on my delivery. And I may not quote you verbatim, but the intended meaning would be there. Thank You!

2. Standing on Imam Shafii’s quote: “And I never debated anyone but that I did not mind whether Allah clarified the truth on my tongue or his tongue” or “I never once debated anyone hoping to win the debate; rather I always wished that the truth would come from his side.”

3. Okay, into the meat (my love for meat is showing. Lol) of the thread. Even though you didn’t mention the verse that permitted polygamy, everyone knows the verse you were talking about (Q4:3).


4. Your reasons for the revelation of the verse are strange. The first time I came across such. I had to quickly consult the books on the exegeses or tafsir of the Quran written by renowned specialists!
दधीचि ऋषि को मनाही थी कि वह अश्विनी कुमारों को किसी भी अवस्था में ब्रह्मविद्या का उपदेश नहीं दें। ये आदेश देवराज इन्द्र का था।वह नहीं चाहते थे कि उनके सिंहासन को प्रत्यक्ष या परोक्ष रुप से कोई भी खतरा हो।मगर जब अश्विनी कुमारों ने सहृदय प्रार्थना की तो महर्षि सहर्ष मान गए।


और उन्होनें ब्रह्मविद्या का ज्ञान अश्विनि कुमारों को दे दिया। गुप्तचरों के माध्यम से जब खबर इन्द्रदेव तक पहुंची तो वे क्रोध में खड़ग ले कर गए और महर्षि दधीचि का सर धड़ से अलग कर दिया।मगर अश्विनी कुमार भी कहां चुप बैठने वाले थे।उन्होने तुरंत एक अश्व का सिर महर्षि के धड़ पे...


...प्रत्यारोपित कर उन्हें जीवित रख लिया।उस दिन के पश्चात महर्षि दधीचि अश्वशिरा भी कहलाए जाने लगे।अब आगे सुनिये की किस प्रकार महर्षि दधीचि का सर काटने वाले इन्द्र कैसे अपनी रक्षा हेतु उनके आगे गिड़गिड़ाए ।

एक बार देवराज इन्द्र अपनी सभा में बैठे थे, तो उन्हे खुद पर अभिमान हो आया।


वे सोचने लगे कि हम तीनों लोकों के स्वामी हैं। ब्राह्मण हमें यज्ञ में आहुति देते हैं और हमारी उपासना करते हैं। फिर हम सामान्य ब्राह्मण बृहस्पति से क्यों डरते हैं ?उनके आने पर क्यों खड़े हो जाते हैं?वे तो हमारी जीविका से पलते हैं। देवर्षि बृहस्पति देवताओं के गुरु थे।

अभिमान के कारण ऋषि बृहस्पति के पधारने पर न तो इन्द्र ही खड़े हुए और न ही अन्य देवों को खड़े होने दिया।देवगुरु बृहस्पति इन्द्र का ये कठोर दुर्व्यवहार देख कर चुप चाप वहां से लौट गए।कुछ देर पश्चात जब देवराज का मद उतरा तो उन्हे अपनी गलती का एहसास हुआ।