Cyclical stocks (metals, commodities, even auto) have the lowest PE multiples right around the top when cycle is about to turn.

That's when they suck in the retail.

More from Mayank Narula

More from Screeners

Time for a new thread on the possibilities I am looking for.
Do read it completely to understand the stance and the plan.


1. The moving average structure - Many traders just look at the 200 ma test or closing above/below it regardless of its slope. Let's look at all the interactions with 200 ma where price met it for the first time after the trend change but with 200 ma slope against it


One can clearly sense that currently it is one of those scenarios only. I understand that I might get trolled for this, but an unbiased mind suggests that odds are highly against the bulls for making fresh investments.

But markets are good at giving surprises. What should be our stance if price kept on rising? Let's understand that through charts. The concept is still the same. Divergent 200 ma and price move results in 200 ma test atleast once which gives good investment opportunities.


2. Zig-Zag bear market- There are two types of fall in a bear market, the first one is vertical fall which usually ends with ending diagonals (falling wedges) and the second one is zig zag one which usually ends with parabolic down moves.

You May Also Like

🌺श्री गरुड़ पुराण - संक्षिप्त वर्णन🌺

हिन्दु धर्म के 18 पुराणों में से एक गरुड़ पुराण का हिन्दु धर्म में बड़ा महत्व है। गरुड़ पुराण में मृत्यु के बाद सद्गती की व्याख्या मिलती है। इस पुराण के अधिष्ठातृ देव भगवान विष्णु हैं, इसलिए ये वैष्णव पुराण है।


गरुड़ पुराण के अनुसार हमारे कर्मों का फल हमें हमारे जीवन-काल में तो मिलता ही है परंतु मृत्यु के बाद भी अच्छे बुरे कार्यों का उनके अनुसार फल मिलता है। इस कारण इस पुराण में निहित ज्ञान को प्राप्त करने के लिए घर के किसी सदस्य की मृत्यु के बाद का समय निर्धारित किया गया है...

..ताकि उस समय हम जीवन-मरण से जुड़े सभी सत्य जान सकें और मृत्यु के कारण बिछडने वाले सदस्य का दुख कम हो सके।
गरुड़ पुराण में विष्णु की भक्ति व अवतारों का विस्तार से उसी प्रकार वर्णन मिलता है जिस प्रकार भगवत पुराण में।आरम्भ में मनु से सृष्टि की उत्पत्ति,ध्रुव चरित्र की कथा मिलती है।


तदुपरांत सुर्य व चंद्र ग्रहों के मंत्र, शिव-पार्वती मंत्र,इन्द्र सम्बंधित मंत्र,सरस्वती मंत्र और नौ शक्तियों के बारे में विस्तार से बताया गया है।
इस पुराण में उन्नीस हज़ार श्लोक बताए जाते हैं और इसे दो भागों में कहा जाता है।
प्रथम भाग में विष्णुभक्ति और पूजा विधियों का उल्लेख है।

मृत्यु के उपरांत गरुड़ पुराण के श्रवण का प्रावधान है ।
पुराण के द्वितीय भाग में 'प्रेतकल्प' का विस्तार से वर्णन और नरकों में जीव के पड़ने का वृत्तांत मिलता है। मरने के बाद मनुष्य की क्या गति होती है, उसका किस प्रकार की योनियों में जन्म होता है, प्रेत योनि से मुक्ति के उपाय...