Do u know about the Diamond known as The Eye of Brahma?

The Eye of Brahma also known as Black Orlov is 7th largest black diamond in the world of Indian origin. It weighs 67.50carats(13.500 g).The diamond was originally 195carats(39.0g)&was discovered in early 19th century India.

The Black Orlov featured as one of the eyes in a statue of the Hindu god Brahma in Puducherry. One night a European Jesuit priest who asked for refuge inside the temple, took advantage of the generosity, plucked and looted the diamond out of the idol's eyes.
It is said after this incident the diamond became cursed.

In 1932, diamond dealer J. W. Paris reportedly took the diamond to the United States, and soon after committed suicide by jumping from a skyscraper in New York City.
Later owners of the diamond included two Russian princesses, Leonila Galitsine-Bariatinsky and Nadia Vygin-Orlov (after whom the diamond is named). Both women allegedly jumped to their deaths in the 1940s.
The diamond was later bought by Charles F. Winson, and cut into three pieces in an attempt to break the curse; the 67.5-carat Black Orlov was set into a brooch of 108 diamonds, suspended from a necklace of 124 diamonds.
Until the discovery of diamonds in South Africa in 1896, India was the only source of diamonds in the world.

🙏🌺

More from Vibhu Vashisth 🇮🇳

राम-रावण युद्ध समाप्त हो चुका था। जगत को त्रास देने वाला रावण अपने कुटुम्ब सहित नष्ट हो चुका था।श्रीराम का राज्याभिषेक हुआ और अयोध्या नरेश श्री राम के नेतृत्व में चारों दिशाओं में शन्ति थी।
अंगद को विदा करते समय राम रो पड़े थे ।हनुमान को विदा करने की शक्ति तो राम में थी ही नहीं ।


माता सीता भी हनुमान को पुत्रवत मानती थी। अत: हनुमान अयोध्या में ही रह गए ।राम दिनभर दरबार में, शासन व्यवस्था में व्यस्त रहते थे। संध्या को जब शासकीय कार्यों में छूट मिलती तो गुरु और माताओं का कुशल-मंगल पूछ अपने कक्ष में जाते थे। परंतु हनुमान जी हमेशा उनके पीछे-पीछे ही रहते थे ।


उनकी उपस्थिति में ही सारा परिवार बहुत देर तक जी भर बातें करता ।फिर भरत को ध्यान आया कि भैया-भाभी को भी एकांत मिलना चाहिए ।उर्मिला को देख भी उनके मन में हूक उठती थी कि इस पतिव्रता को भी अपने पति का सानिध्य चाहिए ।

एक दिन भरत ने हनुमान जी से कहा,"हे पवनपुत्र! सीता भाभी को राम भैया के साथ एकांत में रहने का भी अधिकार प्राप्त है ।क्या आपको उनके माथे पर सिन्दूर नहीं दिखता?इसलिए संध्या पश्चात आप राम भैया को कृप्या अकेला छोड़ दिया करें "।
ये सुनकर हनुमान आश्चर्यचकित रह गए और सीता माता के पास गए ।


माता से हनुमान ने पूछा,"माता आप अपने माथे पर सिन्दूर क्यों लगाती हैं।" यह सुनकर सीता माता बोलीं,"स्त्री अपने माथे पर सिन्दूर लगाती है तो उसके पति की आयु में वृद्धि होती है और वह स्वस्थ रहते हैं "। फिर हनुमान जी प्रभु राम के पास गए ।
💮क्या आपको पंचांग का अर्थ पता है?💮

हिंदू कैलेंडर में पंचांग एक अनिवार्य हिस्सा है,जो हिंदू रीति-रिवाजों की पारंपरिक इकाइयों का पालन करता है, और महत्वपूर्ण तिथियाँ प्रस्तुत करता है और एक सारणीबद्ध रूप में गणना करता है।पंचांग का उपयोग ज्योतिष शास्त्र के लिए भी किया जाता है।o


🌺पंचांग मुख्यतः पाँच भागों से बना है।🌺

💮ये पांच भाग हैं: तिथि, नक्षत्र, वार, योग और करण। यहां दैनिक पंचांग में आपको शुभ समय, राहुकाल, सूर्योदय और सूर्यास्त का समय, तिथि, करण, नक्षत्र, सूर्य और चंद्र ग्रह की स्थिति, हिंदू माह और पहलू आदि के बारे में जानकारी मिलती है।


🌺पंचांग के पाँच भाग तिथि, वार, नक्षत्र, योग, करण हैं।🌺

💮तिथि: हिंदू काल गणना के अनुसार, सूर्य रेखा से 12 डिग्री ऊपर जाने के लिए चंद्र झुकाव में लगने वाले समय को तिथि कहा जाता है।


💮तिथि नाम - प्रतिपदा, द्वितीया, तृतीया, चतुर्थी,पंचमी,षष्ठी, सप्तमी,अष्टमी, नवमी, दशमी, एकादशी,द्वादशी, त्रयोदशी,चतुर्दशी, अमावस्या,पूर्णिमा।

💮नक्षत्र: आकाश मण्डल में एक तारा समूह को नक्षत्र कहा जाता है। इसमें 27 नक्षत्र शामिल हैं और नौ ग्रह इन नक्षत्रों के स्वामित्व में हैं।

💮27 नक्षत्रों के नाम इस प्रकार हैं आश्विन नक्षत्र, भरणी नक्षत्र, कृतिका नक्षत्र, रोहिणी नक्षत्र, मृगशिरा नक्षत्र, आर्द्रा नक्षत्र, पुण्यसूत्र नक्षत्र, पुष्य नक्षत्र, अश्लेषा नक्षत्र, मघा नक्षत्र, मघा नक्षत्र, पूर्वा नक्षत्र, पूर्वा नक्षत्र, पूर्वा नक्षत्र है।

More from History

You May Also Like

1/ I wanted to show you some sneak peek this week, but instead we DEPLOYED TO PRODUCTION 🔥😄

If you’re a creator, get an invite here 👉 https://t.co/D8H6g8TL9o

Week 2 highlights: our first ever podcast 🎙, meeting @Jason 🦄, shipping @BREWdotcom alpha 🚢 & laptop stickers!


2/ First off, thanks for the mind-blowing response last week (120k+ views 😲 omgwtfasdasd!)… absolutely pushed us to get the product out there.

also, there’s something magical about watching people try a buggy product and fixing it on the go 🤓


3/ Thanks @JasonDemant for inviting us to grab some behind the scenes at @LAUNCH.

As a huge fan and avid listener of the @TWistartups show🎙, it was great watching @Jason do his thing live!


4/ 🎙@domainnamewire invited us to chat about acquiring https://t.co/GOQJ7L2faV domain and that was officially our first podcast ever. Check it out here: https://t.co/eusVCOlUSb.

You nailed it your first time, Maddy! 🍻 Thanks for having us on the show, Andrew.

5/ Great news: Brew partnered with @Tipalti to enable payouts for creators everywhere (unlike @kickstarter which only support 26 countries).

Platforms like Twitch use Tipalti to payout instantly and via multiple methods like Check, PayPal, local bank transfer, etc.