🌺Rishi Bharadwaj and his quest to learn the Vedas.🌺

"One has to be humble if he desires to acquire knowledge - Rig Veda.”
There once lived a great Rishi named Bharadvaja.He had an intense desire for knowledge &made it his life goal to master the Vedas.

The Vedas are India’s oldest sacred texts. However, the sage knew that he was only going to live for a hundred years. So he did severe penances and pleased Dev Indra.
Indra appeared before him and the sage asked Indra, “Please give me a hundred more years so that I can complete studying the three vedas”.
Then Indra said,”Tathasthu ( let it be so)”. So the sage Bharadwaja studied the vedas continuously.
When the end of that 100 more years approached, he again prayed to Indra and asked for 100 more years. Indra granted his request. When he again prayed to Indra for further longevity, Indra appeared before him and decided to instruct the rishi Himself.
The Dev then uttered the three vyahritis “Bhuh”, “Bhuva”, and “svah” and created three huge mountains.
When the sage saw the mountains he thought, “Maybe the three mountains represent my mastery over the three vedas”.
To his surprise, Dev Indra took a handful of mud from the three mountains. He said to the sage, “This is what you’ve learnt from the three vedas. The rest is what you still need to know. It may take many many lifetimes to do this”.
The sage was shocked. He thought, “I’ve extended my stay here on earth a couple of times so that I can complete my studies of the vedas. Still I’ve learnt so little, surely this must mean that the vedas cannot be completely studied by anyone”.
Then he asked Indra what to do.
Indra said, “The vedas are unlimited. Except for Sri Vishnu nobody can know them completely. The best thing is to realise the purpose of the vedas. The goal of all the vedas is the supreme Lord. Meditate on Him and fulfill the goal of all the vedas”.
Then the sage went to mattapalli(a place in Andhra pradesh), purified himself by bathing in the river Krishna and meditated on Bhagwan Narasimha. Narasimha is often depicted as half man and half lion and is regarded as one of the incarnations of Sri Vishnu.
Being pleased with his penance, Narasimha appeared before him and granted him permanent residence in the heavenly abode of Vaikunta. ( According to the Vishnu Purana Vaikunta is located 209,600,000 miles above Satyaloka which is also known as Brahmaloka .
Vaikunta is the celestial abode of Sri Vishnu). So the goal of all the vedas is to realise the Supreme Lord who is the central theme of the vedas. When one understands the Lord all the vedic knowledge is revealed to him.
Sri Krishna confirms this in the Bhagwad Gita by saying,"Vadais ca sarvair aham eva vedyah - By the study of all the Vedas, I'm alone to be known".

Jai Sri Krishn 🙏🌺🚩

More from Vibhu Vashisth 🇮🇳

राम-रावण युद्ध समाप्त हो चुका था। जगत को त्रास देने वाला रावण अपने कुटुम्ब सहित नष्ट हो चुका था।श्रीराम का राज्याभिषेक हुआ और अयोध्या नरेश श्री राम के नेतृत्व में चारों दिशाओं में शन्ति थी।
अंगद को विदा करते समय राम रो पड़े थे ।हनुमान को विदा करने की शक्ति तो राम में थी ही नहीं ।


माता सीता भी हनुमान को पुत्रवत मानती थी। अत: हनुमान अयोध्या में ही रह गए ।राम दिनभर दरबार में, शासन व्यवस्था में व्यस्त रहते थे। संध्या को जब शासकीय कार्यों में छूट मिलती तो गुरु और माताओं का कुशल-मंगल पूछ अपने कक्ष में जाते थे। परंतु हनुमान जी हमेशा उनके पीछे-पीछे ही रहते थे ।


उनकी उपस्थिति में ही सारा परिवार बहुत देर तक जी भर बातें करता ।फिर भरत को ध्यान आया कि भैया-भाभी को भी एकांत मिलना चाहिए ।उर्मिला को देख भी उनके मन में हूक उठती थी कि इस पतिव्रता को भी अपने पति का सानिध्य चाहिए ।

एक दिन भरत ने हनुमान जी से कहा,"हे पवनपुत्र! सीता भाभी को राम भैया के साथ एकांत में रहने का भी अधिकार प्राप्त है ।क्या आपको उनके माथे पर सिन्दूर नहीं दिखता?इसलिए संध्या पश्चात आप राम भैया को कृप्या अकेला छोड़ दिया करें "।
ये सुनकर हनुमान आश्चर्यचकित रह गए और सीता माता के पास गए ।


माता से हनुमान ने पूछा,"माता आप अपने माथे पर सिन्दूर क्यों लगाती हैं।" यह सुनकर सीता माता बोलीं,"स्त्री अपने माथे पर सिन्दूर लगाती है तो उसके पति की आयु में वृद्धि होती है और वह स्वस्थ रहते हैं "। फिर हनुमान जी प्रभु राम के पास गए ।
हिमालय पर्वत की एक बड़ी पवित्र गुफा थी।उस गुफा के निकट ही गंगा जी बहती थी।एक बार देवर्षि नारद विचरण करते हुए वहां आ पहुंचे।वह परम पवित्र गुफा नारद जी को अत्यंत सुहावनी लगी।वहां का मनोरम प्राकृतिक दृश्य,पर्वत,नदी और वन देख उनके हृदय में श्रीहरि विष्णु की भक्ति अत्यंत बलवती हो उठी।


और देवर्षि नारद वहीं बैठकर तपस्या में लीन हो गए।इन्द्र नारद की तपस्या से घबरा गए।उन्हें हमेशा की तरह अपना सिंहासन व स्वर्ग खोने का डर सताने लगा।इसलिए इन्द्र ने नारद की तपस्या भंग करने के लिए कामदेव को उनके पास भेज दिया।वहां पहुंच कामदेव ने अपनी माया से वसंतऋतु को उत्पन्न कर दिया।


पेड़ और पौधों पर रंग बिरंगे फूल खिल गए और कोयलें कूकने लगी,पक्षी चहकने लगे।शीतल,मंद,सुगंधित और सुहावनी हवा चलने लगी।रंभा आदि अप्सराएं नाचने लगीं ।किन्तु कामदेव की किसी भी माया का नारद पे कोई प्रभाव नहीं पड़ा।तब कामदेव को डर सताने लगा कि कहीं नारद क्रोध में आकर मुझे श्राप न देदें।

जैसे ही नारद ने अपनी आंखें खोली, उसी क्षण कामदेव ने उनसे क्षमा मांगी।नारद मुनि को तनिक भी क्रोध नहीं आया और उन्होने शीघ्र ही कामदेव को क्षमा कर दिया।कामदेव प्रसन्न होकर वहां से चले गए।कामदेव के चले जाने पर देवर्षि के मन में अहंकार आ गया कि मैने कामदेव को हरा दिया।

नारद फिर कैलाश जा पहुंचे और शिवजी को अपनी विजयगाथा सुनाई।शिव समझ गए कि नारद अहंकारी हो गए हैं और अगर ये बात विष्णु जी जान गए तो नारद के लिए अच्छा नहीं होगा।ये सोचकर शिवजी ने नारद को भगवन विष्णु को ये बात बताने के लीए मना किया। परंतु नारद जी को ये बात उचित नहीं लगी।
⚜️हमारे शास्त्रों के अनुसार पूजा अर्चना में क्या-क्या कार्य वर्जित हैं, आइए जानें:-⚜️

🌺1) गणेश जी को तुलसी न चढ़ाएं।

🌺2) देवी पर दुर्वा न चढ़ाएं।

🌺3) शिव लिंग पर केतकी फूल न चढ़ाएं।

🌺4) विष्णु को तिलक में अक्षत न चढ़ाएं।

🌺5) दो शंख एक समान पूजा घर में न रखें।


🌺6)मंदिर में तीन गणेश मूर्ति न रखें।

🌺7)तुलसी पत्र चबाकर न खाएं।

🌺8)द्वार पर जूते चप्पल उल्टे न रखें।

🌺9)दर्शन करके वापस लौटते समय घंटा न बजाएं।

🌺10)एक हाथ से आरती नहीं लेनी चाहिए।

🌺11)ब्राह्मण को बिना आसन बैठाना नहीं चाहिए।

🌺12) स्त्री द्वारा दंडवत प्रणाम वर्जित है।


🌺13) बिना दक्षिणा ज्योतिषी से प्रश्न नहीं पूछना चाहिए।

🌺14) घर में पूजा करने के लिए अंगूठे से बड़ा शिवलिंग न रखें।

🌺15) तुलसी पेड़ में शिवलिंग किसी भी स्थान पर न हो।

🌺16) गर्भवती महिला को शिवलिंग स्पर्श नहीं करना है।

🌺17) स्त्री द्वारा मंदिर में नारियल नहीं फोडना है।


🌺18) रजस्वला स्त्री का मंदिर प्रवेश वर्जित है।

🌺19) परिवार में सूतक हो तो पूजा प्रतिमा स्पर्श न करें।

🌺20) शिव जी की पूरी परिक्रमा नहीं की जाती।

🌺21) शिव लिंग से बहते जल को लांघना नहीं चाहिए।

🌺22)एक हाथ से प्रणाम न करें।

🌺23)दूसरे के दीपक से अपना दीपक जलाना नहीं चाहिए।


🌺24)चरणामृत लेते समय दायें हाथ के नीचे एक नैपकीन रखें ताकि एक बूंद भी नीचे न गिरे।

🌺25) चरणामृत पीकर हाथों को सिर या शिखा पर न पोछें बल्कि आंखों पर लगायें शिखा पर गायत्री का निवास होता है उसे अपवित्र न करें।

🌺26) देवताओं को लोभान या लोभान की अगरबत्ती का धूप न करें।

More from All

You May Also Like