MAHATMA GANDHI IS NOT THE FATHER OF MY NATION

I agree that a Mahatma got us our freedom, but his name was Netaji Subhash Chandra Bose, not Mohandas Gandhi.
Very early in the childhood of each child of Bharat, it is taught that there is no better Mahatma than Gandhi.

Kids are brainwashed with an image of Gandhi that is far from reality.

An old weak saint walking with a stick,who drove the mighty British away,with his so called weapon of Ahimsa.I mean, really ??

In the centre of Pic is the first Prime Minister of India that we never had.
If that's the case then the freedom fighters like Subhash Bose, Bhagat Singh, Chandrashekhar Azaad, Lala Lajpat Rai, Sukhdev and many more died for nothing.
There deaths were all just a waste. Anyone who believes this today is a fool of highest order.
And to strengthen this thought process a bunch of lies were planted effortlessly by the liberals, pseudo-seculars , leftists and the bootlickers of Britishers like Nehru quite liberally since independence.
No wonder our History textbooks are full of this shit.
Lie#1: We have been taught that Rabindranath Tagore coined the name “Mahatma” for Gandhi.
But, did he ??

The answer is No. It was coined by some of his chamchas while he was in South Africa.
The Britishers' farsightedness saw the benefit of having him and his Ahimsa theory to work in their favor, to curb the real armed revolution that was on a rise in India.
If not for this Mahatma, Bharat would have got her independence a few decades ago.
Armed revolution against the British was on the rise and was threatening to penetrate into the loyal British Indian army. This “Ahimsa pujari” was the perfect bait for the British to stem the tide and redirect it to a harmless game of “Satyagraha”.
So,they stamped the epithet Mahatma on this man through official circular. An RTI application questioning who coined the term Mahatma met with a candid reply from Indian Council of Historical Research (ICHR)& National Archives of India(NAI) stating there were no official records.
The Britishers kept their Mahatma pampered in luxurious resorts and palaces (like Aga Khan palace) in the name of imprisoning him. And, the Mahatma paid them back generously by ensuring full support of Indians in their war efforts in both world war 1 & 2,..
..sending lacs of young Indian men to die on the Western front as cannon fodder.

Lie#2: India won its freedom without any war or bloodshed, only due to Gandhi &Nehru

Fact Check:A blatant lie which completely undermines ultimate sacrifice of 26000 soldiers of INA & Netaji Bose.
It negates the sacrifices of the sepoys and freedom fighters of the 1857 uprising. It tries to wipe out the memories of thousands of freedom fighters who were shot or hanged or sent to the infamous cellular jail in the Andamans by the British.
Eventually the British, bled almost dry in the two world wars and scared by the mutiny in its army and navy as an aftermath of the INA trials, decided to leave India, but only after putting it in the hands of its trusted agents - Jinnah, Nehru and Gandhi
Lie#3: Subhash Bose was a great fan of Gandhi and Nehru, hence he named his INA brigades after Gandhi, Nehru and Azad
Fact check: Subhas Bose did not name these brigades after Gandhi and Nehru. They already had these names before he took command of this army in Singapore.
Bose’s own daughter confirmed that his father had a “difficult” relationship with Gandhi, who sidelined and forced Bose to quit Congress.

It’s time we honor our real heroes and know our real History.
Credit: Swarajya Magazine

More from Vibhu Vashisth 🇮🇳

प्राचीन काल में गाधि नामक एक राजा थे।उनकी सत्यवती नाम की एक पुत्री थी।राजा गाधि ने अपनी पुत्री का विवाह महर्षि भृगु के पुत्र से करवा दिया।महर्षि भृगु इस विवाह से बहुत प्रसन्न हुए और उन्होने अपनी पुत्रवधु को आशीर्वाद देकर उसे कोई भी वर मांगने को कहा।


सत्यवती ने महर्षि भृगु से अपने तथा अपनी माता के लिए पुत्र का वरदान मांगा।ये जानकर महर्षि भृगु ने यज्ञ किया और तत्पश्चात सत्यवती और उसकी माता को अलग-अलग प्रकार के दो चरू (यज्ञ के लिए पकाया हुआ अन्न) दिए और कहा कि ऋतु स्नान के बाद तुम्हारी माता पुत्र की इच्छा लेकर पीपल का आलिंगन...

...करें और तुम भी पुत्र की इच्छा लेकर गूलर वृक्ष का आलिंगन करना। आलिंगन करने के बाद चरू का सेवन करना, इससे तुम दोनो को पुत्र प्राप्ति होगी।परंतु मां बेटी के चरू आपस में बदल जाते हैं और ये महर्षि भृगु अपनी दिव्य दृष्टि से देख लेते हैं।

भृगु ऋषि सत्यवती से कहते हैं,"पुत्री तुम्हारा और तुम्हारी माता ने एक दुसरे के चरू खा लिए हैं।इस कारण तुम्हारा पुत्र ब्राह्मण होते हुए भी क्षत्रिय सा आचरण करेगा और तुम्हारी माता का पुत्र क्षत्रिय होकर भी ब्राह्मण सा आचरण करेगा।"
इस पर सत्यवती ने भृगु ऋषि से बड़ी विनती की।


सत्यवती ने कहा,"मुझे आशीर्वाद दें कि मेरा पुत्र ब्राह्मण सा ही आचरण करे।"तब महर्षि ने उसे ये आशीर्वाद दे दिया कि उसका पुत्र ब्राह्मण सा ही आचरण करेगा किन्तु उसका पौत्र क्षत्रियों सा व्यवहार करेगा। सत्यवती का एक पुत्र हुआ जिसका नाम जम्दाग्नि था जो सप्त ऋषियों में से एक हैं।
🌺आचमन क्या है और इसे तीन बार ही क्यों किया जाता है ?🌺

पूजा, यज्ञ आदि आरंभ करने से पूर्व शुद्धि के लिए मंत्र पढ़ते हुए जल पीना ही आचमन कहलाता है। इससे मन और हृदय की शुद्धि होती है।

धर्मग्रंथों में तीन बार आचमन करने के संबंध में कहा गया है।


प्रथमं यत् पिवति तेन ऋग्वेद प्रीणाति। यद् द्वितीयं तेन यजुर्वेदं प्रीणाति यद् तृतीयं तेन सामवेदं प्रीणाति॥

अर्थात् तीन बार आचमन करने से तीनों वेद यानी-ऋग्वेद,यजुर्वेद,सामवेद प्रसन्न होकर सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं।
मनु महाराज के मतानुसार
त्रिराचामेदपः पूर्वम्।
-मनुस्मृति2/60

अर्थात् सबसे पहले तीन बार आचमन करना चाहिए। इससे कंठशोषण दूर होकर, कफ़ निवृत्ति के कारण श्वसन क्रिया में व मंत्रोच्चारण में शुद्धता आती है। इसीलिए प्रत्येक धार्मिक कृत्य के शुरू में और संध्योपासन के मध्य बीच-बीच में अनेक बार तीन की संख्या में आचमन का विधान बनाया गया है।


इसके अलावा यह भी माना जाता है कि इससे कायिक, मानसिक और वाचिक तीनों प्रकार के पापों की निवृत्ति होकर न दिखने वाले फल की प्राप्ति होती है।

अंगूठे के मूल में ब्रह्मतीर्थ, कनिष्ठा के मूल प्रजापत्यतीर्थ, अंगुलियों के अग्रभाग में देवतीर्थ, तर्जनी और अंगूठे के बीच पितृतीर्थ और

हाथ के मध्य भाग में सौम्यतीर्थ होता है, जो देवकर्म में प्रशस्त माना गया है। आचमन हमेशा ब्रह्मतीर्थ से करना चाहिए। आचमन करने से पहले अंगुलियां मिलाकर एकाग्रचित्त यानी एकसाथ करके पवित्र जल से बिना शब्द किए 3 बार आचमन करने से महान फल मिलता है। आचमन हमेशा 3 बार करना चाहिए।

More from All

कुंडली में 12 भाव होते हैं। कैसे ज्योतिष द्वारा रोग के आंकलन करते समय कुंडली के विभिन्न भावों से गणना करते हैं आज इस पर चर्चा करेंगे।
कुण्डली को कालपुरुष की संज्ञा देकर इसमें शरीर के अंगों को स्थापित कर उनसे रोग, रोगेश, रोग को बढ़ाने घटाने वाले ग्रह


रोग की स्थिति में उत्प्रेरक का कार्य करने वाले ग्रह, आयुर्वेदिक/ऐलोपैथी/होमियोपैथी में से कौन कारगर होगा इसका आँकलन, रक्त विकार, रक्त और आपरेशन की स्थिति, कौन सा आंतरिक या बाहरी अंग प्रभावित होगा इत्यादि गणना करने में कुंडली का प्रयोग किया जाता है।


मेडिकल ज्योतिष में आज के समय में Dr. K. S. Charak का नाम निर्विवाद रूप से प्रथम स्थान रखता है। उनकी लिखी कई पुस्तकें आज इस क्षेत्र में नए ज्योतिषों का मार्गदर्शन कर रही हैं।
प्रथम भाव -
इस भाव से हम व्यक्ति की रोगप्रतिरोधक क्षमता, सिर, मष्तिस्क का विचार करते हैं।


द्वितीय भाव-
दाहिना नेत्र, मुख, वाणी, नाक, गर्दन व गले के ऊपरी भाग का विचार होता है।
तृतीय भाव-
अस्थि, गला,कान, हाथ, कंधे व छाती के आंतरिक अंगों का शुरुआती भाग इत्यादि।

चतुर्थ भाव- छाती व इसके आंतरिक अंग, जातक की मानसिक स्थिति/प्रकृति, स्तन आदि की गणना की जाती है


पंचम भाव-
जातक की बुद्धि व उसकी तीव्रता,पीठ, पसलियां,पेट, हृदय की स्थिति आंकलन में प्रयोग होता है।

षष्ठ भाव-
रोग भाव कहा जाता है। कुंडली मे इसके तत्कालिक भाव स्वामी, कालपुरुष कुंडली के स्वामी, दृष्टि संबंध, रोगेश की स्थिति, रोगेश के नक्षत्र औऱ रोगेश व भाव की डिग्री इत्यादि।

You May Also Like

And here they are...

THE WINNERS OF THE 24 HOUR STARTUP CHALLENGE

Remember, this money is just fun. If you launched a product (or even attempted a launch) - you did something worth MUCH more than $1,000.

#24hrstartup

The winners 👇

#10

Lattes For Change - Skip a latte and save a life.

https://t.co/M75RAirZzs

@frantzfries built a platform where you can see how skipping your morning latte could do for the world.

A great product for a great cause.

Congrats Chris on winning $250!


#9

Instaland - Create amazing landing pages for your followers.

https://t.co/5KkveJTAsy

A team project! @bpmct and @BaileyPumfleet built a tool for social media influencers to create simple "swipe up" landing pages for followers.

Really impressive for 24 hours. Congrats!


#8

SayHenlo - Chat without distractions

https://t.co/og0B7gmkW6

Built by @DaltonEdwards, it's a platform for combatting conversation overload. This product was also coded exclusively from an iPad 😲

Dalton is a beast. I'm so excited he placed in the top 10.


#7

CoderStory - Learn to code from developers across the globe!

https://t.co/86Ay6nF4AY

Built by @jesswallaceuk, the project is focused on highlighting the experience of developers and people learning to code.

I wish this existed when I learned to code! Congrats on $250!!
@EricTopol @NBA @StephenKissler @yhgrad B.1.1.7 reveals clearly that SARS-CoV-2 is reverting to its original pre-outbreak condition, i.e. adapted to transgenic hACE2 mice (either Baric's BALB/c ones or others used at WIV labs during chimeric bat coronavirus experiments aimed at developing a pan betacoronavirus vaccine)

@NBA @StephenKissler @yhgrad 1. From Day 1, SARS-COV-2 was very well adapted to humans .....and transgenic hACE2 Mice


@NBA @StephenKissler @yhgrad 2. High Probability of serial passaging in Transgenic Mice expressing hACE2 in genesis of SARS-COV-2


@NBA @StephenKissler @yhgrad B.1.1.7 has an unusually large number of genetic changes, ... found to date in mouse-adapted SARS-CoV2 and is also seen in ferret infections.
https://t.co/9Z4oJmkcKj


@NBA @StephenKissler @yhgrad We adapted a clinical isolate of SARS-CoV-2 by serial passaging in the ... Thus, this mouse-adapted strain and associated challenge model should be ... (B) SARS-CoV-2 genomic RNA loads in mouse lung homogenates at P0 to P6.
https://t.co/I90OOCJg7o