दधीचि ऋषि को मनाही थी कि वह अश्विनी कुमारों को किसी भी अवस्था में ब्रह्मविद्या का उपदेश नहीं दें। ये आदेश देवराज इन्द्र का था।वह नहीं चाहते थे कि उनके सिंहासन को प्रत्यक्ष या परोक्ष रुप से कोई भी खतरा हो।मगर जब अश्विनी कुमारों ने सहृदय प्रार्थना की तो महर्षि सहर्ष मान गए।

और उन्होनें ब्रह्मविद्या का ज्ञान अश्विनि कुमारों को दे दिया। गुप्तचरों के माध्यम से जब खबर इन्द्रदेव तक पहुंची तो वे क्रोध में खड़ग ले कर गए और महर्षि दधीचि का सर धड़ से अलग कर दिया।मगर अश्विनी कुमार भी कहां चुप बैठने वाले थे।उन्होने तुरंत एक अश्व का सिर महर्षि के धड़ पे...
...प्रत्यारोपित कर उन्हें जीवित रख लिया।उस दिन के पश्चात महर्षि दधीचि अश्वशिरा भी कहलाए जाने लगे।अब आगे सुनिये की किस प्रकार महर्षि दधीचि का सर काटने वाले इन्द्र कैसे अपनी रक्षा हेतु उनके आगे गिड़गिड़ाए ।

एक बार देवराज इन्द्र अपनी सभा में बैठे थे, तो उन्हे खुद पर अभिमान हो आया।
वे सोचने लगे कि हम तीनों लोकों के स्वामी हैं। ब्राह्मण हमें यज्ञ में आहुति देते हैं और हमारी उपासना करते हैं। फिर हम सामान्य ब्राह्मण बृहस्पति से क्यों डरते हैं ?उनके आने पर क्यों खड़े हो जाते हैं?वे तो हमारी जीविका से पलते हैं। देवर्षि बृहस्पति देवताओं के गुरु थे।
अभिमान के कारण ऋषि बृहस्पति के पधारने पर न तो इन्द्र ही खड़े हुए और न ही अन्य देवों को खड़े होने दिया।देवगुरु बृहस्पति इन्द्र का ये कठोर दुर्व्यवहार देख कर चुप चाप वहां से लौट गए।कुछ देर पश्चात जब देवराज का मद उतरा तो उन्हे अपनी गलती का एहसास हुआ।
वे देवगुरु के पास अपने कृत्य का पश्चाताप करने गए परंतु उन्हें वे नहीं मिले क्योंकि वे कहीं अज्ञातवास में चले गए थे।निराश होकर इन्द्र लौट आए। गुरु के बिना यज्ञ कौन कराए और यज्ञ के बिना देवता शक्तिहीन होने लगे।
असुरों को जब ये ज्ञात हुआ तो उन्होने तुरंत अपने गुरु शुक्राचार्या...
...की सम्मति से देवताओं पर आक्रमण कर दिया।देवेन्द्र समेत सभी देवताओं को स्वर्ग छोड़ना पड़ा।स्वर्ग पर असुरों का अधिकार हो गया।देवता अपनी सहायता हेतु ब्रह्मा जी के पास गए। ब्रह्मा जी ने कहा,"त्वष्टा के पुत्र विश्वरूप को अपना गुरु बनाकर काम चलाओ।"
देवताओं ने ऐसा ही किया।विश्वरूप बड़े विद्वान,वेदज्ञ और सदाचारी थे किन्तु उनकी माता असुर कुल की थी, जिस वजह से वे कभी कभी छिपकर असुरों को भी यज्ञाहुतियों का कुछ भाग दे देते थे। इससे असुरों के बल में भी वृद्धि होने लगी।इन्द्र को जब ये पता चला तो उसने विश्वरूप का सर काट लिया।
इससे इन्द्र को ब्रह्महत्या का दोष लग गया।बहुत सारी क्षमा-याचना और मान-मन्नौवल करने के बाद गुरु बृहस्पति जी मान गए ।उन्होने यज्ञ आदि कराकर इन्द्र का ब्रह्महत्या दोष दूर किया।देवता फिर बलशाली हुए और उनका फिरसे स्वर्ग पर अधिकार हो गया।
उधर त्वष्टा ऋषि ने अपने पुत्रहत्या का बदला लेने के लिए अपने तप के प्रभाव से एक बड़े पराक्रमी राक्षस वृत्रासुर को उत्पन्न किया।उसके जन्म से तीनों लोक भयभीत हो गए।इन्द्र को मारने के लिए वृत्रासुर निकल पड़ा।इन्द्र दौड़े दौड़े ब्रह्माजी के पास गए व अपनी जान बचाने का उपाए पूछने लगे।
ब्रह्माजी बोले,"इन्द्र! तुम वृत्रासुर से किसी प्रकार नहीं बच सकते। वह बड़ा बली,तपस्वी और ईश्वर भक्त है।उसे मारने का एक ही उपाय है। नैमिषारण्य में महर्षि दधीचि तपस्या कर रहे हैं।भगवान शिव के वरदान से उनकी हड्डियां वज्र से भी अधिक मजबूत हैं।
यदि वे अपनी हड्डियां तुम्हें दान दे दें तो तुम उनसे वज्र का निर्माण करो,उसी वज्र के प्रहार से वृत्रासुर की मृत्यु संभव है अन्यथा नहीं।" इन्द्र समस्त देवताओं को ले नैमिषरण्य पहुंचे।उग्र तपस्या में लीन महर्षि की उन्होनें बड़ी स्तुति की। ऋषि ने प्रसन्न होकर उनसे वरदान मांगने को कहा।
इन्द्र ने उन्हें सारा वृत्तांत सुनाया व हाथ जोड़कर उनसे विनती की,"हे महर्षि!आप मुझे अपनी हड्डियां दान में दें जिनसे मैं वज्र का निर्माण कर वृत्रासुर का वध कर सकूं।"
ऋषि दधीचि बोले,"देवराज!समस्त देह धारियों को अपनी देह प्यारी होती है।स्वेच्छा से देह त्याग करना कठिन कार्य होता है।
किन्तु तीनों लोकों के मंगल के निमित्त मैं यह कार्य करने को भी तैयार हूं।बस मेरी तीर्थ करने की इच्छा थी।"तब इन्द्र बोले,"महर्षि! मैं आपकी इच्छा पूर्ण करने के लिए सभी तीर्थों को नैमिषरण्य ले आऊंगा।" ये कहकर देवराज इन्द्र समस्त तीर्थों को नैमिषरण्य ले आए।
ऋषि ने प्रसन्न होकर सब में स्नान,आचमन आदि किया और फिर वे समाधि में लीन हो गए।समाधि में बैठने के पश्चात उन्होनें अपना शरीर त्याग दिया। तब इन्द्र ने महर्षि की हड्डियों से महान शक्तिशाली तेजोमय दिव्य वज्रास्त्र बनाया और वृत्रासुर का वध कर तीनों लोकों को उसके भय से मुक्त किया।
यहां एक बात का और स्मरण करें की महर्षि दधीचि की हड्डियों से वज्रास्त्र बनाने के पश्चात जो हड्डियां बची थीं उन्हीं हड्डियों से भगवान शिव का पिनाक धनुष बना था जिसे तोड़ भगवान राम ने सीता माता से विवाह किया था।
इस प्रकार एक महान ऋषि के अद्वितीय त्याग से देवराज इन्द्र का कष्ट दूर हुआ और तीनों लोक सुखी हुए। ये वही इन्द्र थे जिन्होने महर्षि दधीचि के साथ घोर अन्याय किया था जब अश्विनिकुमारो को ब्रह्मविद्या देने के कारण इन्द्र ने उनका सिर लील लिया था।
जिस इन्द्र ने इनके साथ इतना दुष्ट व्यवहार किया था उसी इन्द्र की महर्षि दधीचि ने अपनी हड्डी देकर सहायता की।संतों की उदारता ऐसी ही होती है।ऋषि दधीचि का ये त्याग परोपकारी संतों के लिए एक परम आदर्श है ।

ऊँ नम: शिवाए...💞🌺🙏

More from Vibhu Vashisth

More from All

#ஆதித்தியஹ்ருதயம் ஸ்தோத்திரம்
இது சூரிய குலத்தில் உதித்த இராமபிரானுக்கு தமிழ் முனிவர் அகத்தியர் உபதேசித்ததாக வால்மீகி இராமாயணத்தில் வருகிறது. ஆதித்ய ஹ்ருதயத்தைத் தினமும் ஓதினால் பெரும் பயன் பெறலாம் என மகான்களும் ஞானிகளும் காலம் காலமாகக் கூறி வருகின்றனர். ராம-ராவண யுத்தத்தை


தேவர்களுடன் சேர்ந்து பார்க்க வந்திருந்த அகத்தியர், அப்போது போரினால் களைத்து, கவலையுடன் காணப்பட்ட ராமபிரானை அணுகி, மனிதர்களிலேயே சிறந்தவனான ராமா போரில் எந்த மந்திரத்தைப் பாராயணம் செய்தால் எல்லா பகைவர்களையும் வெல்ல முடியுமோ அந்த ரகசிய மந்திரத்தை, வேதத்தில் சொல்லப்பட்டுள்ளதை உனக்கு

நான் உபதேசிக்கிறேன், கேள் என்று கூறி உபதேசித்தார். முதல் இரு சுலோகங்கள் சூழ்நிலையை விவரிக்கின்றன. மூன்றாவது சுலோகம் அகத்தியர் இராமபிரானை விளித்துக் கூறுவதாக அமைந்திருக்கிறது. நான்காவது சுலோகம் முதல் முப்பதாம் சுலோகம் வரை ஆதித்ய ஹ்ருதயம் என்னும் நூல். முப்பத்தி ஒன்றாம் சுலோகம்

இந்தத் துதியால் மகிழ்ந்த சூரியன் இராமனை வாழ்த்துவதைக் கூறுவதாக அமைந்திருக்கிறது.
ஐந்தாவது ஸ்லோகம்:
ஸர்வ மங்கள் மாங்கல்யம் ஸர்வ பாப ப்ரநாசனம்
சிந்தா சோக ப்ரசமனம் ஆயுர் வர்த்தனம் உத்தமம்
பொருள்: இந்த அதித்ய ஹ்ருதயம் என்ற துதி மங்களங்களில் சிறந்தது, பாவங்களையும் கவலைகளையும்


குழப்பங்களையும் நீக்குவது, வாழ்நாளை நீட்டிப்பது, மிகவும் சிறந்தது. இதயத்தில் வசிக்கும் பகவானுடைய அனுக்ரகத்தை அளிப்பதாகும்.
முழு ஸ்லோக லிங்க் பொருளுடன் இங்கே உள்ளது
https://t.co/Q3qm1TfPmk
சூரியன் உலக இயக்கத்திற்கு மிக முக்கியமானவர். சூரிய சக்தியால்தான் ஜீவராசிகள், பயிர்கள்

You May Also Like

A common misunderstanding about Agile and “Big Design Up Front”:

There’s nothing in the Agile Manifesto or Principles that states you should never have any idea what you’re trying to build.

You’re allowed to think about a desired outcome from the beginning.

It’s not Big Design Up Front if you do in-depth research to understand the user’s problem.

It’s not BDUF if you spend detailed time learning who needs this thing and why they need it.

It’s not BDUF if you help every team member know what success looks like.

Agile is about reducing risk.

It’s not Agile if you increase risk by starting your sprints with complete ignorance.

It’s not Agile if you don’t research.

Don’t make the mistake of shutting down critical understanding by labeling it Bg Design Up Front.

It would be a mistake to assume this research should only be done by designers and researchers.

Product management and developers also need to be out with the team, conducting the research.

Shared Understanding is the key objective


Big Design Up Front is a thing to avoid.

Defining all the functionality before coding is BDUF.

Drawing every screen and every pixel is BDUF.

Promising functionality (or delivery dates) to customers before development starts is BDUF.

These things shouldn’t happen in Agile.