Sri Devi Karumariamman mandir, Chennai, Tamilnadu

Sri Devi Karumariamman mandir is in Thiruverkadu, a suburb of Chennai. It is said that God Muruga came here and obtained the 'Vel' (spear) from His mother, Goddess Karumari (an avatar of Parvathi) 1/n

to fight the demon Suran and hence this place was called as 'Vel kadu' and became as Verkadu. As per legend Devi Karumariamman once disguised as a soothsayer visited Bhagwan Surya, the Sun God, to predict His future. 2/n
Not realising that the soothsayer is none other than Sakthi Matha, Surya ignored Her. Angered by his indifference, Devi Karumariamman immediately retreated. Bhagwan Surya lost His glory and the earth plunged into darkness. 3/n
Bhagwan Surya then realised His folly and pleaded forgiveness from Devi Karumariamman. In order to pacify mother Karumariamman, Suryadev said that His rays would fall on Her directly twice in a year and touch her feet. (in the month of Panguni (March- April) & during (Sep - Oct)
Mother Karumari Amman is worshipped here in two forms.A swayambu (self manifested) with only head visible above the ground and another one in a graceful sitting posture with all Parasakthi features,with four arms holding skull, sword, trishul, udukkai (damru). 5/n
Origin of this mandir is said to around 1000 years old. At the entrance of the temple, is a sannithi for Bhagwan Ganesha, under a tree, on the left of the flag post. As we enter the mandir, we can see the Navagraha sannithi to the left &.. 6/n
Sannithi for Srinivasa Perumal on the right. This mandir has sannithis for Subramanya with Valli and Deivanai, Dakshinamoorthy, Mahalakshmi, Gayathri and Anjaneya.There is also a sannithi for Sage Agasthya. 7/n
There is also a small temple tank , called Vedatheertham, in front of the temple complex. The tank created by Lord Subramanya is called as Thiruchamber Poigai. Taking a dip in the holy tank is said to cure people of skin related disorders. 8/n
Gau puja (worship of cows) is performed everyday in the morning. Archana with Kumkum is performed daily between 4.30- 6.00pm.On the new moon day every month, a yagna with red chillies is performed. 9/n
Brahmotsavam is celebrated for nineteen days during the month of Thai (January- February) and the deity is taken in a procession through the streets around the temple. The last three days, the Thepoutsavam (Tank festival) is celeberated. 10/n
Aadi festival in July- August is a major festival of the temple. On Sundays, Ksheerabhisheka (abishekam with milk) is performed with 108 pots of milk. In the evening, the deity is taken out in a procession. 11/n
The turmeric applied on Devi Karumariamman is distributed to devotees. It is said that the turmeric blesses unmarried girls a happy wedded life and childless couple are blessed with child. 12/12

#DekhoApnaDesh
#IncredibleIndia
#SanatanDharma
#heritage
📷 credit : Google and pintrest

More from श्रीमाली हितेश अवस्थी

।। हरि ॐ।।
शिव के रुद्राभिषेक से होते हैं 18 आश्चर्यजनक लाभ, जरूर पढ़े..

रुद्र अर्थात भूतभावन शिव का अभिषेक। शिव और रुद्र परस्पर एक-दूसरे के पर्यायवाची हैं। शिव को ही 'रुद्र' कहा जाता है, क्योंकि रुतम्-दु:खम्, द्रावयति-नाशयतीतिरुद्र: यानी कि भोले सभी दु:खों को नष्ट कर देते हैं।


हमारे धर्मग्रंथों के अनुसार हमारे द्वारा किए गए पाप ही हमारे दु:खों के कारण हैं। रुद्रार्चन और रुद्राभिषेक से हमारी कुंडली से पातक कर्म एवं महापातक भी जलकर भस्म हो जाते हैं और साधक में शिवत्व का उदय होता है तथा भगवान शिव का शुभाशीर्वाद भक्त को प्राप्त होता है।


और उनके सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। ऐसा कहा जाता है कि एकमात्र सदाशिव रुद्र के पूजन से सभी देवताओं की पूजा स्वत: हो जाती है।

रुद्रहृदयोपनिषद में शिव के बारे में कहा गया है कि सर्वदेवात्मको रुद्र: सर्वे देवा: शिवात्मका अर्थात सभी देवताओं की आत्मा में रुद्र उपस्थित हैं..


और सभी देवता रुद्र की आत्मा हैं। हमारे शास्त्रों में विविध कामनाओं की पूर्ति के लिए रुद्राभिषेक के पूजन के निमित्त अनेक द्रव्यों तथा पूजन सामग्री को बताया गया है। साधक रुद्राभिषेक पूजन विभिन्न विधि से तथा विविध मनोरथ को लेकर करते हैं।


रुद्राभिषेक से हमारी कुंडली के महापाप भी जलकर भस्म हो जाते हैं और हममें शिवत्व का उदय होता है। भगवान शिव का शुभाशीर्वाद प्राप्त होता है। सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। एकमात्र सदाशिव रुद्र के पूजन से सभी देवताओं की पूजा स्वत: हो जाती है।रुद्राभिषेक के विभिन्न पूजन के लाभ इस प्रकार हैं
#Thread
कौन से ऋषि का क्या है महत्व:

अंगिरा ऋषि :-

ऋग्वेद के प्रसिद्ध ऋषि अंगिरा ब्रह्मा के पुत्र थे। उनके पुत्र बृहस्पति देवताओं के गुरु थे। ऋग्वेद के अनुसार, ऋषि अंगिरा ने सर्वप्रथम अग्नि उत्पन्न की थी।

Cont 👇


विश्वामित्र ऋषि :-

गायत्री मंत्र का ज्ञान देने वाले विश्वामित्र वेदमंत्रों के सर्वप्रथम द्रष्टा माने जाते हैं। आयुर्वेदाचार्य सुश्रुत इनके पुत्र थे। विश्वामित्र की परंपरा पर चलने वाले ऋषियों ने उनके नाम को धारण किया। यह परंपरा अन्य ऋषियों के साथ भी चलती रही।

Cont 👇

वशिष्ठ ऋषि :-

ऋग्वेद के मंत्रद्रष्टा और गायत्री मंत्र के महान साधक वशिष्ठ सप्तऋषियों में से एक थे। उनकी पत्नी अरुंधती वैदिक कर्मो में उनकी सहभागी थीं।

Cont 👇

कश्यप ऋषि :-

मारीच ऋषि के पुत्र और आर्य नरेश दक्ष की १३ कन्याओं के पुत्र थे। स्कंद पुराण के केदारखंड के अनुसार, इनसे देव, असुर और नागों की उत्पत्ति हुई।

जमदग्नि ऋषि :-

भृगुपुत्र यमदग्नि ने गोवंश की रक्षा पर ऋग्वेद के १६ मंत्रों की रचना की है।

Cont 👇

केदारखंड के अनुसार, वे आयुर्वेद और चिकित्साशास्त्र के भी विद्वान थे।

अत्रि ऋषि :-

सप्तर्षियों में एक ऋषि अत्रि ऋग्वेद के पांचवें मंडल के अधिकांश सूत्रों के ऋषि थे। वे चंद्रवंश के प्रवर्तक थे। महर्षि अत्रि आयुर्वेद के आचार्य भी थे।

Cont 👇
#Thread
अट्ठारह पुराणों का संक्षिप्त परिचय

पुराण शब्द का अर्थ ही है प्राचीन कथा, पुराण विश्व साहित्य के सबसे प्राचीन ग्रँथ हैं, उन में लिखित ज्ञान और नैतिकता की बातें आज भी प्रासंगिक, अमूल्य तथा मानव सभ्यता की आधारशिला हैं..

👇👇


वेदों की भाषा तथा शैली कठिन है, पुराण उसी ज्ञान के सहज तथा रोचक संस्करण हैं। उन में जटिल तथ्यों को कथाओं के माध्यम से समझाया गया है, पुराणों का विषय नैतिकता, विचार, भूगोल, खगोल, राजनीति, संस्कृति, सामाजिक परम्परायें, विज्ञान तथा अन्य बहुत से विषय हैं,..

👇👇

विशेष तथ्य यह है कि पुराणों में देवी-देवताओं, राजाओं, और ऋषि-मुनियों के साथ साथ जन साधारण की कथाओं का भी उल्लेख किया गया हैं, जिस से पौराणिक काल के सभी पहलूओं का चित्रण मिलता है।

👇👇

महृर्षि वेदव्यासजी ने अट्ठारह पुराणों का संस्कृत भाषा में संकलन किया है, ब्रह्मदेव, श्री हरि विष्णु भगवान् तथा भगवान् महेश्वर उन पुराणों के मुख्य देव हैं, त्रिमूर्ति के प्रत्येक भगवान स्वरूप को छः पुराण समर्पित किये गये हैं, इन अट्ठारह पुराणों के अतिरिक्त सोलह उप-पुराण भी हैं।
👇

पुराणों का संक्षिप्त परिचय:

1. ब्रह्म पुराण

ब्रह्मपुराण सब से प्राचीन है, इस पुराण में दो सौ छियालीस अध्याय तथा चौदह हजार श्र्लोक हैं, इस ग्रंथ में ब्रह्माजी की महानता के अतिरिक्त सृष्टि की उत्पत्ति, गंगा अवतरण तथा रामायण और कृष्णावतार की कथायें भी संकलित हैं,..

👇👇

More from All

Ivor Cummins has been wrong (or lying) almost entirely throughout this pandemic and got paid handsomly for it.

He has been wrong (or lying) so often that it will be nearly impossible for me to track every grift, lie, deceit, manipulation he has pulled. I will use...


... other sources who have been trying to shine on light on this grifter (as I have tried to do, time and again:


Example #1: "Still not seeing Sweden signal versus Denmark really"... There it was (Images attached).
19 to 80 is an over 300% difference.

Tweet: https://t.co/36FnYnsRT9


Example #2 - "Yes, I'm comparing the Noridcs / No, you cannot compare the Nordics."

I wonder why...

Tweets: https://t.co/XLfoX4rpck / https://t.co/vjE1ctLU5x


Example #3 - "I'm only looking at what makes the data fit in my favour" a.k.a moving the goalposts.

Tweets: https://t.co/vcDpTu3qyj / https://t.co/CA3N6hC2Lq

You May Also Like

I think a plausible explanation is that whatever Corbyn says or does, his critics will denounce - no matter how much hypocrisy it necessitates.


Corbyn opposes the exploitation of foreign sweatshop-workers - Labour MPs complain he's like Nigel

He speaks up in defence of migrants - Labour MPs whinge that he's not listening to the public's very real concerns about immigration:

He's wrong to prioritise Labour Party members over the public:

He's wrong to prioritise the public over Labour Party