Here is the detailed information of about strategy,

Entry time : 9.30 - 10
Exit : Upto you

Strategy :
Sell weekly ATM CE & PE at almost equal price
For ex : Sell Nifty 17250 CE at 50 and Nifty 17250 PE at 48 so it will become short straddle

Buy monthly ATM or near ATM CE & PE at matching price (5-10 points diff should be fine) as hedge
For ex : Buy Nifty 17250 CE at 150 and Nifty 17300 PE at 155 so it will become long straddle.

Weekly Short straddle + Monthly Long straddle
Adjustment:

• If you feel slightly bullish/bearish then no adjustment needed
• If Nifty moves 50 up or down and sustain then just simply roll up or down half of qnty and keep rest of the quantity. If market goes up or down further then roll up or down rest.
• If Nifty moves one side or about to breach BEP then add equal amount of lot. This can balance tested side. For ex: If I bought 17300 CE 4 lot as hedge then add 4 lot so you will have only one side risk . Note: Remember to keep SL at cost price (only for additional lot bought)
Capital requirement:
2.2 L for 4 lot
Adjustment requires additional capital upto 1L

Note : High risk high reward strategy, please don’t execute until you fully understand. Kindly do paper trading or backtest.
RR : 1:1
POP : 45-55%
Disclaimer:
This is for educational purpose, I am not responsible for your profit or loss. Take your own decision 🙏🏼
Pardon my English 😀

Happy trading 😇
DONT LIKE SIMPLE IGNORE 🙏🙏😇

More from itrade(DJ)

More from Optionslearnings

For Weekend learning

Some knowledgeable tweets/threads by me...

I will keep adding to this thread over time

Starting with:

1. Option Synthetics Explained
2. Best free Data website - Icici Direct
3. Per order vs Per lot brokerage
4. Best youtube channel - Power of Stocks

A thread on Option Synthetics

1. Increase your returns
2. Margin requirements/costs are less
3. Save on STT/other charges
4. Develop a better understanding of


Best free website to get Data from - ICICI DIRECT

Advantages:
1. Quantitative Analysis in one place
2. Easy to find stocks where action taking place
3. Find the exact price levels at which OI is being


PER ORDER Vs PER LOT brokerage

Which one is better?

Read the thread to know why one is clearly better than the


Finally, Check out Subhasish Pani Channel - Power of Stocks

My favorite Youtuber from the trading community without a doubt.

Spend your weekend learning from his channel.

You May Also Like

🌺श्री गरुड़ पुराण - संक्षिप्त वर्णन🌺

हिन्दु धर्म के 18 पुराणों में से एक गरुड़ पुराण का हिन्दु धर्म में बड़ा महत्व है। गरुड़ पुराण में मृत्यु के बाद सद्गती की व्याख्या मिलती है। इस पुराण के अधिष्ठातृ देव भगवान विष्णु हैं, इसलिए ये वैष्णव पुराण है।


गरुड़ पुराण के अनुसार हमारे कर्मों का फल हमें हमारे जीवन-काल में तो मिलता ही है परंतु मृत्यु के बाद भी अच्छे बुरे कार्यों का उनके अनुसार फल मिलता है। इस कारण इस पुराण में निहित ज्ञान को प्राप्त करने के लिए घर के किसी सदस्य की मृत्यु के बाद का समय निर्धारित किया गया है...

..ताकि उस समय हम जीवन-मरण से जुड़े सभी सत्य जान सकें और मृत्यु के कारण बिछडने वाले सदस्य का दुख कम हो सके।
गरुड़ पुराण में विष्णु की भक्ति व अवतारों का विस्तार से उसी प्रकार वर्णन मिलता है जिस प्रकार भगवत पुराण में।आरम्भ में मनु से सृष्टि की उत्पत्ति,ध्रुव चरित्र की कथा मिलती है।


तदुपरांत सुर्य व चंद्र ग्रहों के मंत्र, शिव-पार्वती मंत्र,इन्द्र सम्बंधित मंत्र,सरस्वती मंत्र और नौ शक्तियों के बारे में विस्तार से बताया गया है।
इस पुराण में उन्नीस हज़ार श्लोक बताए जाते हैं और इसे दो भागों में कहा जाता है।
प्रथम भाग में विष्णुभक्ति और पूजा विधियों का उल्लेख है।

मृत्यु के उपरांत गरुड़ पुराण के श्रवण का प्रावधान है ।
पुराण के द्वितीय भाग में 'प्रेतकल्प' का विस्तार से वर्णन और नरकों में जीव के पड़ने का वृत्तांत मिलता है। मरने के बाद मनुष्य की क्या गति होती है, उसका किस प्रकार की योनियों में जन्म होता है, प्रेत योनि से मुक्ति के उपाय...