The Haas / Force India argument is fascinating, and the decision of the stewards may still have consequences. The first key finding is that the stewards ruled Racing Point Force India to be a valid constructor. That means that it builds its own cars.

Haas had argued that the cars had been designed by Force India, but as Haas knows only too well, "outsourcing" is legal. The stewards decided that "there is no regulatory support for the argument that Outsourcing of Listed Parts cannot come from a former or excluded team."
In determining this, the stewards also came to the following conclusion: "In relation to the submission by the Racing Point Force India F1 Team that it is not a new team, the Stewards decide that the Racing Point Force India F1 Team is indeed a new team."
This will have a big knock on effect for Haas in its continued arguments over the rights of RPFI as relates to its eligibility and rights under the complex payments structure. Haas has argued all along that RPFI should be treated as a new team and tread the same path that it did.
TLDR? Haas lost the fight but may have won the war. In having its argument that Racing Point hadn't designed their own car thrown out, they gained clarification that RPFI was a new team.

More from Sport

You May Also Like

🌺कैसे बने गरुड़ भगवान विष्णु के वाहन और क्यों दो भागों में फटी होती है नागों की जिह्वा🌺

महर्षि कश्यप की तेरह पत्नियां थीं।लेकिन विनता व कद्रु नामक अपनी दो पत्नियों से उन्हे विशेष लगाव था।एक दिन महर्षि आनन्दभाव में बैठे थे कि तभी वे दोनों उनके समीप आकर उनके पैर दबाने लगी।


प्रसन्न होकर महर्षि कश्यप बोले,"मुझे तुम दोनों से विशेष लगाव है, इसलिए यदि तुम्हारी कोई विशेष इच्छा हो तो मुझे बताओ। मैं उसे अवश्य पूरा करूंगा ।"

कद्रू बोली,"स्वामी! मेरी इच्छा है कि मैं हज़ार पुत्रों की मां बनूंगी।"
विनता बोली,"स्वामी! मुझे केवल एक पुत्र की मां बनना है जो इतना बलवान हो की कद्रू के हज़ार पुत्रों पर भारी पड़े।"
महर्षि बोले,"शीघ्र ही मैं यज्ञ करूंगा और यज्ञ के उपरांत तुम दोनो की इच्छाएं अवश्य पूर्ण होंगी"।


महर्षि ने यज्ञ किया,विनता व कद्रू को आशीर्वाद देकर तपस्या करने चले गए। कुछ काल पश्चात कद्रू ने हज़ार अंडों से काले सर्पों को जन्म दिया व विनता ने एक अंडे से तेजस्वी बालक को जन्म दिया जिसका नाम गरूड़ रखा।जैसे जैसे समय बीता गरुड़ बलवान होता गया और कद्रू के पुत्रों पर भारी पड़ने लगा


परिणामस्वरूप दिन प्रतिदिन कद्रू व विनता के सम्बंधों में कटुता बढ़ती गयी।एकदिन जब दोनो भ्रमण कर रहीं थी तब कद्रू ने दूर खड़े सफेद घोड़े को देख कर कहा,"बता सकती हो विनता!दूर खड़ा वो घोड़ा किस रंग का है?"
विनता बोली,"सफेद रंग का"।
तो कद्रू बोली,"शर्त लगाती हो? इसकी पूँछ तो काली है"।