EVOLUTION OF CROWNS

The ancient Indian kings called a head crown as a Mukut and it would mostly constitute of a golden ornamental headgear like an oval cap with gems.

Sometimes it would also include a halo circle to show the divinity of the king

1/7

As it was considered that kings were appointment by the gods themselves. Example the kings of mewar considered themselves to be the ‘Diwan of eklingji')

But in most cases very few Mukut with halo effect have been found.

2/7
Samudragupta in the gupta era coin. You can see the helmet like headwear on him.

Till gupta era the solid golden head wear was used in most days of the monarch.

But since the onset of 8th century it reduced in usage and was now used only as a ceremonial headwear.

3/7
Whereas earlier the Maharaja had to wear the mukut whenever his court was in session.

Still mukut was being used prominently for ceremonial activities till recent times.

Maharaj Dahir of Sindh👇

4/7
But as times past the style of headwear also changed.

The kings mostly wore turbans ordained with pearls and gems while rarely anyone wore a true Mukut after 16th century.

Portrait of Sri Krishna Dev Raya👇

5/7
Maharana Kumbha of Mewar 👇

6/7
Chhatrapati Shivaji Maharaj 👇

As you can see, rarely any king wore the above mentioned Mukut.

There maybe many reasons to it .

Weather & comfort are the main.

7/7
Info credit - @Tarang60301263

More from WORLD OF SANATAN DHARMA

More from All

🌺श्री गरुड़ पुराण - संक्षिप्त वर्णन🌺

हिन्दु धर्म के 18 पुराणों में से एक गरुड़ पुराण का हिन्दु धर्म में बड़ा महत्व है। गरुड़ पुराण में मृत्यु के बाद सद्गती की व्याख्या मिलती है। इस पुराण के अधिष्ठातृ देव भगवान विष्णु हैं, इसलिए ये वैष्णव पुराण है।


गरुड़ पुराण के अनुसार हमारे कर्मों का फल हमें हमारे जीवन-काल में तो मिलता ही है परंतु मृत्यु के बाद भी अच्छे बुरे कार्यों का उनके अनुसार फल मिलता है। इस कारण इस पुराण में निहित ज्ञान को प्राप्त करने के लिए घर के किसी सदस्य की मृत्यु के बाद का समय निर्धारित किया गया है...

..ताकि उस समय हम जीवन-मरण से जुड़े सभी सत्य जान सकें और मृत्यु के कारण बिछडने वाले सदस्य का दुख कम हो सके।
गरुड़ पुराण में विष्णु की भक्ति व अवतारों का विस्तार से उसी प्रकार वर्णन मिलता है जिस प्रकार भगवत पुराण में।आरम्भ में मनु से सृष्टि की उत्पत्ति,ध्रुव चरित्र की कथा मिलती है।


तदुपरांत सुर्य व चंद्र ग्रहों के मंत्र, शिव-पार्वती मंत्र,इन्द्र सम्बंधित मंत्र,सरस्वती मंत्र और नौ शक्तियों के बारे में विस्तार से बताया गया है।
इस पुराण में उन्नीस हज़ार श्लोक बताए जाते हैं और इसे दो भागों में कहा जाता है।
प्रथम भाग में विष्णुभक्ति और पूजा विधियों का उल्लेख है।

मृत्यु के उपरांत गरुड़ पुराण के श्रवण का प्रावधान है ।
पुराण के द्वितीय भाग में 'प्रेतकल्प' का विस्तार से वर्णन और नरकों में जीव के पड़ने का वृत्तांत मिलता है। मरने के बाद मनुष्य की क्या गति होती है, उसका किस प्रकार की योनियों में जन्म होता है, प्रेत योनि से मुक्ति के उपाय...

You May Also Like