15 Deep Philosophy Quotes From “Rumi "

| Thread

1. “Goodbyes are only for those who love with their eyes.

Because for those who love with heart and soul there is no such thing as separation."

– Rumi
2. “Raise your words, not voice. It is rain that grows flowers, not thunder.”

- Rumi
3. “Don’t grieve. Anything you lose comes round in another form."

– Rumi
4. “Whenever you are alone, remind yourself that God has sent everyone else away so that there is only you and Him."

- Rumi
5. “The wound is the place where the Light enters you."

– Rumi
6. “The art of knowing is knowing what to ignore."

- Rumi
7. “What you seek is seeking you."

– Rumi
8. “Set your life on fire. Seek those who fan your flames."

– Rumi
9. "As you start to walk out on the way, the way appears."

- Rumi
10. "Be patient where you sit in the dark. The dawn is coming."

- Rumi
11. "Protect yourself from your own thoughts."

- Rumi
12. "Be silent, Only the Hand of God Can remove The burdens of your heart."

- Rumi
13. "The quieter you become, the more you are able to hear."

- Rumi
14. "The inspiration you seek is already within you. Be silent and listen."

- Rumi
15. "Yesterday I was clever, so I wanted to change the world.

Today I am wise, so I am changing myself."

– Rumi
You can't improve if you don't know what you're doing wrong.

• Make time for stillness
• Master over your mind
• Practice decision-making skills

Work on your mental models. Practice critical thinking

get your copy:

https://t.co/Dsp8zPhmjV
Follow 'Philosophy Thoughts' on Instagram for Daily Wise Quotes:

https://t.co/Wv8hJCBioa

More from Philosophy Thoughts

More from Principles

You May Also Like

🌺श्री गरुड़ पुराण - संक्षिप्त वर्णन🌺

हिन्दु धर्म के 18 पुराणों में से एक गरुड़ पुराण का हिन्दु धर्म में बड़ा महत्व है। गरुड़ पुराण में मृत्यु के बाद सद्गती की व्याख्या मिलती है। इस पुराण के अधिष्ठातृ देव भगवान विष्णु हैं, इसलिए ये वैष्णव पुराण है।


गरुड़ पुराण के अनुसार हमारे कर्मों का फल हमें हमारे जीवन-काल में तो मिलता ही है परंतु मृत्यु के बाद भी अच्छे बुरे कार्यों का उनके अनुसार फल मिलता है। इस कारण इस पुराण में निहित ज्ञान को प्राप्त करने के लिए घर के किसी सदस्य की मृत्यु के बाद का समय निर्धारित किया गया है...

..ताकि उस समय हम जीवन-मरण से जुड़े सभी सत्य जान सकें और मृत्यु के कारण बिछडने वाले सदस्य का दुख कम हो सके।
गरुड़ पुराण में विष्णु की भक्ति व अवतारों का विस्तार से उसी प्रकार वर्णन मिलता है जिस प्रकार भगवत पुराण में।आरम्भ में मनु से सृष्टि की उत्पत्ति,ध्रुव चरित्र की कथा मिलती है।


तदुपरांत सुर्य व चंद्र ग्रहों के मंत्र, शिव-पार्वती मंत्र,इन्द्र सम्बंधित मंत्र,सरस्वती मंत्र और नौ शक्तियों के बारे में विस्तार से बताया गया है।
इस पुराण में उन्नीस हज़ार श्लोक बताए जाते हैं और इसे दो भागों में कहा जाता है।
प्रथम भाग में विष्णुभक्ति और पूजा विधियों का उल्लेख है।

मृत्यु के उपरांत गरुड़ पुराण के श्रवण का प्रावधान है ।
पुराण के द्वितीय भाग में 'प्रेतकल्प' का विस्तार से वर्णन और नरकों में जीव के पड़ने का वृत्तांत मिलता है। मरने के बाद मनुष्य की क्या गति होती है, उसका किस प्रकार की योनियों में जन्म होता है, प्रेत योनि से मुक्ति के उपाय...
1. Project 1742 (EcoHealth/DTRA)
Risks of bat-borne zoonotic diseases in Western Asia

Duration: 24/10/2018-23 /10/2019

Funding: $71,500
@dgaytandzhieva
https://t.co/680CdD8uug


2. Bat Virus Database
Access to the database is limited only to those scientists participating in our ‘Bats and Coronaviruses’ project
Our intention is to eventually open up this database to the larger scientific community
https://t.co/mPn7b9HM48


3. EcoHealth Alliance & DTRA Asking for Trouble
One Health research project focused on characterizing bat diversity, bat coronavirus diversity and the risk of bat-borne zoonotic disease emergence in the region.
https://t.co/u6aUeWBGEN


4. Phelps, Olival, Epstein, Karesh - EcoHealth/DTRA


5, Methods and Expected Outcomes
(Unexpected Outcome = New Coronavirus Pandemic)