More from Nishant Kumar

More from Praj

You May Also Like

Department List of UCAS-China PROFESSORs for ANSO, CSC and UCAS (fully or partial) Scholarship Acceptance
1) UCAS School of physical sciences Professor
https://t.co/9X8OheIvRw
2) UCAS School of mathematical sciences Professor

3) UCAS School of nuclear sciences and technology
https://t.co/nQH8JnewcJ
4) UCAS School of astronomy and space sciences
https://t.co/7Ikc6CuKHZ
5) UCAS School of engineering

6) Geotechnical Engineering Teaching and Research Office
https://t.co/jBCJW7UKlQ
7) Multi-scale Mechanics Teaching and Research Section
https://t.co/eqfQnX1LEQ
😎 Microgravity Science Teaching and Research

9) High temperature gas dynamics teaching and research section
https://t.co/tVIdKgTPl3
10) Department of Biomechanics and Medical Engineering
https://t.co/ubW4xhZY2R
11) Ocean Engineering Teaching and Research

12) Department of Dynamics and Advanced Manufacturing
https://t.co/42BKXEugGv
13) Refrigeration and Cryogenic Engineering Teaching and Research Office
https://t.co/pZdUXFTvw3
14) Power Machinery and Engineering Teaching and Research
शमशान में जब महर्षि दधीचि के मांसपिंड का दाह संस्कार हो रहा था तो उनकी पत्नी अपने पति का वियोग सहन नहीं कर पायी और पास में ही स्थित विशाल पीपल वृक्ष के कोटर में अपने तीन वर्ष के बालक को रख के स्वयं चिता पे बैठ कर सती हो गयी ।इस प्रकार ऋषी दधीचि और उनकी पत्नी की मुक्ति हो गयी।


परन्तु पीपल के कोटर में रखा बालक भूख प्यास से तड़पने लगा। जब कुछ नहीं मिला तो वो कोटर में पड़े पीपल के गोदों (फल) को खाकर बड़ा होने लगा। कालान्तर में पीपल के फलों और पत्तों को खाकर बालक का जीवन किसी प्रकार सुरक्षित रहा।

एक दिन देवर्षि नारद वहां से गुजर रहे थे ।नारद ने पीपल के कोटर में बालक को देख कर उसका परिचय मांगा -
नारद बोले - बालक तुम कौन हो?
बालक - यही तो मैं भी जानना चहता हूँ ।
नारद - तुम्हारे जनक कौन हैं?
बालक - यही तो मैं भी जानना चाहता हूँ ।

तब नारद ने आँखें बन्द कर ध्यान लगाया ।


तत्पश्चात आश्चर्यचकित हो कर बालक को बताया कि 'हे बालक! तुम महान दानी महर्षि दधीचि के पुत्र हो । तुम्हारे पिता की अस्थियों का वज्रास्त्र बनाकर ही देवताओं ने असुरों पर विजय पायी थी।तुम्हारे पिता की मृत्यु मात्र 31 वर्ष की वय में ही हो गयी थी'।

बालक - मेरे पिता की अकाल मृत्यु का क्या कारण था?
नारद - तुम्हारे पिता पर शनिदेव की महादशा थी।
बालक - मेरे उपर आयी विपत्ति का कारण क्या था?
नारद - शनिदेव की महादशा।
इतना बताकर देवर्षि नारद ने पीपल के पत्तों और गोदों को खाकर बड़े हुए उस बालक का नाम पिप्पलाद रखा और उसे दीक्षित किया।