#Thread The legend of Ekadash Mukhi Hanuman ji...

Mahadev himself narrated the story of Ekadash Mukhi Hanuman ji to Maa Parvati. Once a great monster named Kalkarmukh performed the severe penance of Brahma ji.
Pleased with the austerity of the demon, Brahma ji gave him a boon that the person who will have eleven Heads like you and who was born on the day of your birth, only he/she will be able to kill you. No one else will kill you.
After getting a boon from Brahma ji, Kalkarmukh created a ruckus in all three lok. He invaded Swarg and snatched all the rights of the Devtas and became himself the king of Swarg.
All Devtagan came to Shri Rama and asked him for help. Hearing the agony of the Devtagan, Shri Ram called his supreme devotee Hanuman ji and said, "Pawan Putra, Sankatmochan".
You are the only one who can protect this world. Hanuman ji was born on Chaitra Purnima and Chaitra Purnima was also the birth date of Kalkarmukh.
Hanuman ji bowed down to Shree Rama and then took a very fierce form in which he had eleven heads.This form of Hanuman ji is called Ekadash Mukhi and 11 Mukhi. Hanuman ji challenged Kalkarmukh to battle. Kalkarmukh arrived with his army to fight with Hanuman ji.
Ekadash Hanuman ji killed the kalkarmukh's army in a moment. After that Hanuman ji grabbed the Kalkarmukh's neck and took him to the sky. In this way Hanuman ji killed Kalkarmukh.
All Devtagan bowed down to Hanuman ji and said that Hanuman ji whoever worships your Ekadash sawroop, all his wishes will be fulfilled and he/she should be protected from all directions.
📸: Respected Owner
Please like, retweet and follow @ranvijayT90 for more Facts, Unsolved Mysteries and Unexplored Places. 🙏
Cc: @LostTemple7 @DograTishaa @mamatarsingh @pujari_anup @artisdiary @Sumita327 @varshaparmar6 @desi_thug1 @DivineElement @SanatanOnly @InfoVedic @DeepaShreeAB @harshasherni @rightwingchora @TheAlpraptors @Official_Sherni @Kautilya_tilak

More from Ranvijay Singh🇮🇳

#Thread 1 नवंबर 1979, समय: रात्रि 1 बजे श्री तिरुपति बालाजी मंदिर के गर्भगृह में लटकी विशाल कांस्य घंटियाँ अपने आप बजने लगी।


यह चमत्कारी घटना क्यों हुई और कैसे हुई यह जानने से पहले हमें इस घटना के घटित होने से एक सप्ताह पहले के बारे में जानना होगा। उस समय तिरुमला क्षेत्र पानी की भारी किल्लत से जूझ रहा था। सूखे की स्थिति बन चुकी थी।


तिरुमला पहाड़ी पर पीने के पानी के कुएं भी सूख रहे थे (वर्तमान पापा नासनम जलाशय तब निर्माणाधीन था)। गोगरभम जलाशय का जल स्तर भी तेजी से घट रहा था। मंदिर प्रशासन कड़े निर्णय लेने पर मजबूर था।


तीव्र जल संकट से बहुत परेशान, तिरुमला तिरुपति देवस्थानम बोर्ड के कार्यकारी अधिकारी पीवीआरके प्रसाद ने तुरंत तिरुमला में चल रहे जल संकट से निपटने के उपायों पर चर्चा करने के लिए अपने थिंक टैंक की एक आपातकालीन बैठक बुलाई।


इंजीनियरों ने पूरी तरह से असहाय होने का अनुरोध किया और बदले में कार्यकारी अधिकारी को चेतावनी देते हुए कहा, "तिरुमला मंदिर के टैंकों और जलाशयों में अब बहुत कम पानी के भंडार हैं जिन्हें केवल बहुत सीमित समय के लिए ही परोसा जा सकता है।
#Thread जो अंगूठी भगवान राम ने सीता जी की खोज के समय हनुमानजी को दी थी क्या था उस दिव्य अंगूठी का रहस्य...


एक बार कुछ देवतागण, ऋषि पाताल में जाकर शेषनाग जी से कुछ वार्तालाप कर रहे थे। इसी दौरान किसी ऋषि ने कुछ ऐसा कहा जिससे वह सब हंसने लगे। शेषनाग जी भी अपनी हंसी रोक नहीं पाए और जोर-जोर से हंसने लगे जिस कारण उनके फनों पर स्थित धरती हिलने लगी।


जिसे देखकर ऋषियों में मौजूद अष्टावक्र जी ने अपने हाथों का सहारा देकर धरती को बचा लिया। यह देखकर शेषनाग जी बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने प्रसन्नता सवरूप अष्टावक्र जी को एक दिव्य अंगूठी दी और कहा यह अंगूठी बहुत ही दिव्य है। इसे धारण कर लीजिए और अगर आप इसे उतारें तो दोबारा मत पहने।

अष्टावक्र जी के प्रिय शिष्य थे राजा अज जो कि महाराज दशरथ के पिता थे। एक बार प्रसन्न होने पर अष्टावक्र जी ने वह अंगूठी राजा अज को दे दी और कहा इसे धारण कर लीजिए। राजन यह बहुत दिव्य अंगूठी है। परंतु कभी भी इस अंगूठी को उतारना मत अगर किसी कारणवश इसे उतारना पड़े तो दोबारा मत पहनना।


जब विवाह उपरांत माता सीता ने पहली बार भोजन बनाया तो भोजन से प्रसन्न होकर महाराज दशरथ ने वह अंगूठी अपनी पुत्रवधू को उपहार स्वरूप दे दी। जब रामचंद्र भगवान, सीता जी, लक्ष्मण जी वनवास के लिए निकले तो सब ने अपने आभूषणों का त्याग किया।

You May Also Like

My top 10 tweets of the year

A thread 👇

https://t.co/xj4js6shhy


https://t.co/b81zoW6u1d


https://t.co/1147it02zs


https://t.co/A7XCU5fC2m
A THREAD ON @SarangSood

Decoded his way of analysis/logics for everyone to easily understand.

Have covered:
1. Analysis of volatility, how to foresee/signs.
2. Workbook
3. When to sell options
4. Diff category of days
5. How movement of option prices tell us what will happen

1. Keeps following volatility super closely.

Makes 7-8 different strategies to give him a sense of what's going on.

Whichever gives highest profit he trades in.


2. Theta falls when market moves.
Falls where market is headed towards not on our original position.


3. If you're an options seller then sell only when volatility is dropping, there is a high probability of you making the right trade and getting profit as a result

He believes in a market operator, if market mover sells volatility Sarang Sir joins him.


4. Theta decay vs Fall in vega

Sell when Vega is falling rather than for theta decay. You won't be trapped and higher probability of making profit.